Homeसियासतपश्चिम बंगाल के बाद अब त्रिपुरा में तृणमूल ने झोंकी ताकत

पश्चिम बंगाल के बाद अब त्रिपुरा में तृणमूल ने झोंकी ताकत

कोलकाता। सत्तारूढ़ पार्टी तृणमूल कांग्रेस ने पश्चिम बंगाल के बाद अब त्रिपुरा में अपनी ताकत झोंक दी है। वहां प्रशांत किशोर की कंपनी “आईपैक” के सदस्यों के साथ पुलिस की कथित बदसलूकी को लेकर तृणमूल कांग्रेस के नेता और मंत्री पहुंच चुके हैं। इसके अलावा मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी भी जाने वाले हैं।

माना जा रहा है कि त्रिपुरा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ अभी से ही तृणमूल लामबंदी कर रही है। त्रिपुरा की राजधानी अगरतला के एक होटल में पिछले हफ्ते से रह रही चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर की इंडियन पालिटिकल एक्शन कमेटी (आईपैक) की एक टीम को स्थानीय पुलिस ने एक अगस्त को पूछताछ के लिये तलब किया है, जबकि इसके विरोध में ममता के मंत्री ब्रात्य बसु, मलय घटक और पूर्व सांसद ऋतव्रत बनर्जी अगरतला पहुंचे और पूरी घटना का विरोध किया।

तृणमूल की त्रिपुरा इकाई ने इसे लोकतंत्र पर हमला करार दिया, जबकि पश्चिम त्रिपुरा के पुलिस अधीक्षक माणिक दास ने कहा कि नियमित जांच के तहत अगरतला स्थित होटल में आइ-पैक के 22 सदस्यों से पूछताछ की जा रही है। इस बाबत टीम के सदस्यों को तलब किया गया है और कहा गया है यदि हाजिर नहीं हुए, तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

माणिक दास ने संवाददाताओं से कहा कि करीब 22 बाहरी लोग विभिन्न स्थानों पर घूम रहे थे। चूंकि कोरोना प्रतिबंध लागू हैं, इसलिए हम उनके शहर में आने और ठहरने के कारणों की पुष्टि के लिए पूछताछ कर रहे हैं। सभी की सोमवार को कोरोना जांच की गई और रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है।

मंत्री मलय घटक ने कहा कि कोरोना नियम उल्लंघन का मामला दर्ज किया गया है। सभी का रिपोर्ट कोरोना निगेटिव आया है। हमलोगों ने डबल वैक्सीन ली है। आरटीपीसीआर की निगेटिव रिपोर्ट दी गई है। झूठा मामला कर त्रिपुरा सरकार यह समझेगी कि तृणमूल को भय दिखाएगी, यह नहीं होगा। बंगाल के चुनाव में जनता ने ममता बनर्जी के पक्ष में राय दी है, जबकि भाजपा ने अपनी पूरी ताकत लगा दी थी। त्रिपुरा के लोग भी भाजपा को खारिज कर देंगे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments