Homeराज्यकृष्ण जन्मोत्सव: मुख्यमंत्री योगी बोले-मंदिर जाने में संकोच करने वाले राम-कृष्ण को...

कृष्ण जन्मोत्सव: मुख्यमंत्री योगी बोले-मंदिर जाने में संकोच करने वाले राम-कृष्ण को बता रहे अपना

मथुरा। श्रीकृष्णोत्सव में शामिल होने यहां पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जन्मस्थान मंदिर में कान्हा के दर्शन किए और संतों को सम्मानित किया। राम लीला मैदान में आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि वह पहली बार जन्मोत्सव में शामिल हुए। इस अवसर का तीन वर्षों से इंतजार था।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मैं वृंदावन बिहारी लाल से प्रार्थना करने आया हूं कि जैसे आपने अनेक राक्षसों का अंत किया था, वैसे ही कोरोना रूपी राक्षस का भी अंत करने की कृपा करें। उन्होंने कहा कि पहले आपके पर्व और त्योहार में बधाई देने के लिए मुख्यमंत्री, मंत्री और विधायक नहीं आते थे। भाजपा के प्रतिनिधियों को छोड़कर अन्य दलों के लोग दूर भागते थे। हिंदू पर्व और त्योहारों में कोई सहभागी नहीं बनता था। अलग से बंदिशें लगती थीं। अब कोई बंदिश नहीं है। जो पहले मंदिर जाने में संकोच करते थे अब कह रहे हैं राम हमारे भी हैं कृष्ण हमारे भी हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस धरा धाम पर धर्म की स्थापना के लिए 5,000 वर्ष पूर्व अवतरित होकर सभी को कृतार्थ करने वाले भगवान श्रीकृष्ण की जन्माष्टमी के साथ आज योग माया के प्रकटीकरण का भी दिन है। उन्होंने कहा कि धरा पर धर्म की स्थापना के लिए कृष्ण का प्राकट्य हुआ था। कोरोना को लेकर मुख्यमंत्री ने कहा कि इस वर्ष कोरोना वायरस नियंत्रण में है। लेकिन, सावधानी अपेक्षित है। महामारी के दौरान सरकारी संसाधन अक्सर कम पड़ते हैं। पीड़ितों के परिवार से संवेदना है। लापरवाही न करें तो महामारी बाल भी बांका नहीं कर सकती। कोरोना रूपी अदृश्य शत्रु से लड़ने की राह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दिखाई है। कोरोना गाइड लाइन का पालन करें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पुरातन परम्परा को कायम रखते हुए नए कलेवर के साथ बृज क्षेत्र विकास की ओर अग्रसर है। क्षेत्र के भौतिक विकास के साथ आध्यात्मिक व सांस्कृतिक विरासत को भी बनाए रखना है, वही हमारी पहचान है। ब्रज क्षेत्र के विकास में कोइ कोर कसर नहीं छोड़ेंगे। सभी जनप्रतिनिधि इस ओर प्रयासरत हैं।  सांस्कृतिक विरासत हमारी पहचान है।

 

टोक्यो पैरालंपिक: डिस्कस थ्रोअर विनोद कुमार से छीना गया कांस्य पदक

उन्होंने कहा कि आज एक-एक कर सैकड़ों वर्षों से दबी भावनाएं व आस्था के केंद्र पुनः अपने नए रूप में सामने आ रहे हैं। अयोध्या में भगवान राम के भव्य मंदिर का निर्माण आरंभ हो गया है। उन्होंने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के रामलला के दर्शन को लेकर कहा कि आजादी के बाद वे पहले राष्ट्रपति हैं, जो दर्शन करने पहुंचे। इसी तरह नरेन्द्र मोदी प्रथम प्रधानमंत्री हैं, जिन्होंने रामलला जी के दर्शन किए। अब प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में नया भारत अंगड़ाई ले रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हम अपनी आध्यात्मिक संस्कृति को संरक्षित करें। हम यहां के कण कण में वृंदावन बिहारी लाल का दर्शन करते हें। ब्रजवासी धन्य हैं। उन्हें इस भूमि पर जन्म लेने का सौभाग्य मिला। हमने 2017 में नगर निगम का गठन कराया। तीर्थ स्थल की व्यस्थाओं में जो लोग लगे हैं, उन्हें ट्रेनिंग देकर दुग्ध पालन कराएं। व्यवस्थित पुनर्वास कराना है। परिषद प्रशासन यहां की और विकास योजनाएं तैयार करे।

 

 

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments