HomeUncategorizedदीदी को मिला बाबुल का साथ: पूर्व केन्द्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो तृणमूल...

दीदी को मिला बाबुल का साथ: पूर्व केन्द्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो तृणमूल कांग्रेस में शामिल

कोलकाता। पूर्व केन्द्रीय मंत्री और भाजपा के पूर्व सांसद बाबुल सुप्रियो शनिवार को तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो गए। कुछ दिन पहले ही बाबुल सुप्रियो ने भाजपा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था। बाबुल को कुछ हफ्ते पहले मंत्री पद से हटाया गया था और तब से उनकी चुप्पी भी बहुत कुछ कह रही थी। इसके बाद से ही उनकी भाजपा से जाने की अटकलें लगायी जा रही थी। इसके बाद बाबुल सुप्रियो ने अपने फेसबुक पर ‘अलविदा’ भी लिखा था और राजनीति से कथित तौर पर सन्यास लेने की बात कही थी। लेकिन, अब उन्होंने अपने नये सियासी घर में प्रवेश कर लिया है। बंगाल विधानसभा चुनाव 2021 में हार के बाद भाजपा के लिए ये बड़ा झटका है। पार्टी के वरिष्ठ नेता मुकुल रॉय के बाद बाबुल सुप्रियो ने दीदी हाथ थाम लिया है। वहीं इसके बाद राज्य में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस और सशक्त बनकर उभरी है।

भाजपा छोड़ते समय क्या कहा था बाबुल ने, अब बदल गई चाल

मैंने सब कुछ सुना-पिता, (मां), पत्नी, बेटी, एक-दो प्यारे दोस्त..सब कुछ सुनकर समझ और महसूस होता है, मैं किसी और पार्टी में नहीं जा रहा हूं। #TMC, #Congress, #CPIM, कहीं नहीं- कंफर्म करें, किसी ने मुझे फोन नहीं किया, मैं भी कहीं नहीं जा रहा हूं। मैं एक टीम प्लेयर हूं! हमेशा एक टीम का साथ दिया है #MohunBagan – सिर्फ पार्टी बीजेपी पश्चिम बंगाल की है.. बस !! शालम…

‘कुछ देर रुके’.. कुछ मन में रखा, कुछ तोड़ा.. कहीं अपने काम में तुझे खुश किया, कहीं निराश किया। आप आंकलन नहीं करेंगे। मन में आने वाले तमाम सवालों के जवाब देने के बाद कहता हूं.. अपनी तरह कहता हूं..चल दर… यदि आप सामाजिक कार्य करना चाहते हैं, तो आप इसे राजनीति में आए बिना कर सकते हैं। पिछले कुछ दिनों में, मैंने बार-बार राजनीति छोड़ने का फैसला लिया है। माननीय अमित शाह और माननीय नड्डाजी ने मुझे हर तरह से प्रेरित किया, मैं उनका सदा आभारी हूं।

यह भी पढ़ें-

PM मोदी का जन्मदिन: टीकाकरण के विश्व रिकार्ड में देखिए किसकी कितनी हिस्सेदारी

मैं उनके प्यार को कभी नहीं भूलूंगा और इसलिए मैं उन्हें फिर कभी वही बात कहने का दुस्साहस नहीं दिखाऊंगा। खासकर जब मैंने बहुत पहले तय कर लिया है कि मेरा ‘मैं’ क्या करना चाहता है तो फिर वही बात दोहराने के लिए, कहीं न कहीं वे सोच सकते हैं कि मैं एक ‘पद’ के लिए ‘सौदेबाजी’ कर रहा हूं। और जब यह बिल्कुल भी सच नहीं है, तो मैं नहीं चाहता कि उनके दिमाग के उत्तर-पूर्व कोने में ‘संदेह’ पैदा हो-एक पल के लिए भी।

मैं प्रार्थना करता हूं कि वे मुझे गलत समझे बिना मुझे माफ कर देंगे। मैं कुछ खास नहीं कहूंगा- अब ‘तुम कहते हो मैं सुनूंगा’- दिन में, शाम को लेकिन मुझे एक प्रश्न का उत्तर देना है क्योंकि यह प्रासंगिक है! सवाल यह है कि मैंने राजनीति क्यों छोड़ी? क्या इसका मंत्रालय छोड़ने से कोई लेनादेना है? हां वहां है- कुछ होना चाहिए! मैं घबराना नहीं चाहता, इसलिए जैसे ही वह प्रश्न का उत्तर देगा, यह ठीक होगा- इससे मुझे भी शांति मिलेगी।

2014 और 2019 में बहुत बड़ा अंतर है। तब मैं ही बीजेपी का टिकट था (अहलूवालियाजी के सम्मान में- जीजेएम दार्जिलिंग सीट पर बीजेपी की सहयोगी थी) लेकिन, आज बीजेपी बंगाल में मुख्य विपक्षी दल है। आज पार्टी में कई नए उज्ज्वल युवा नेता हैं और साथ ही कई पुराने मजाकिया नेता भी हैं। कहने की जरूरत नहीं है कि उनकी अगुवाई वाली टीम यहां से काफी आगे जाएगी। मुझे यह कहने में कोई संकोच नहीं है कि यह स्पष्ट है कि आज पार्टी में किसी व्यक्ति का होना कोई बड़ी बात नहीं है और मेरा दृढ़ विश्वास है कि इसे स्वीकार करना ही सही निर्णय होगा!

It’s non-godi vs godi journalists; it’s a battle between genuine and fake

एक और बात.. वोट से पहले ही कुछ मुद्दों पर राज्य नेतृत्व के साथ मतभेद थे- हो सकता है लेकिन कुछ मुद्दे सार्वजनिक रूप से सामने आ रहे थे। कहीं न कहीं मैं इसके लिए जिम्मेदार हूं (मैंने एक फेसबुक पोस्ट की जो पार्टी अनुशासन की श्रेणी में आती है) और कहीं और अन्य नेता भी बहुत जिम्मेदार हैं। हालांकि मैं यह नहीं जानना चाहता कि आज कौन जिम्मेदार है। लेकिन, असहमति और झगड़ा पार्टी को आहत कर रहे हैं। फिर भी यह समझने के लिए ‘रॉकेट साइंस’ के ज्ञान की जरूरत नहीं है कि यह किसी भी तरह से पार्टी कार्यकर्ताओं का मनोबल नहीं गिरा रहा है।

इस समय यह पूरी तरह से अवांछनीय है। इसलिए मैं आसनसोल के लोगों के प्रति अपार कृतज्ञता और प्रेम के साथ जा रहा हूं। मुझे विश्वास नहीं होता कि मैं कहीं गया था- मैं ‘मैं’ के साथ था- इसलिए मैं कहीं जा रहा हूं और मैं आज ऐसा नहीं कहूंगा। कई नए मंत्रियों को अभी तक सरकारी आवास नहीं मिला है। इसलिए मैं एक महीने में अपना घर छोड़ दूंगा (जितनी जल्दी हो सके – शायद पहले भी)। नहीं, मैं इसे और नहीं लूंगा।

आसमान में फ्लाइट में रामदेवजी से एक छोटी सी बातचीत हुई। मुझे यह बिल्कुल पसंद नहीं आया जब मुझे एहसास हुआ कि बीजेपी बंगाल को बहुत गंभीरता से ले रही है, वह ताकत से लड़ेगी लेकिन शायद उसे किसी सीट की उम्मीद नहीं है। ऐसा लग रहा था कि जो बंगाली श्यामाप्रसाद मुखर्जी का इतना सम्मान और प्यार करते हैं, अटल बिहारी वाजपेयी कि बंगाली बीजेपी में एक भी सीट नहीं जीतेंगे, ऐसा कैसे हो सकता है!!!

खासकर जब पूरे भारत ने वोट से पहले ही तय कर लिया था कि उनके योग्य उत्तराधिकारी, नामित श्री नरेन्द्र मोदी भारत के अगले प्रधानमंत्री होंगे, तो बंगाल अलग तरह से क्यों सोचेगा। ऐसा लग रहा था कि चुनौती को तब बंगाली के रूप में लिया जाना चाहिए था, इसलिए मैंने सभी की बात सुनी लेकिन मुझे जो सही लगा वह किया – अनिश्चितता के डर के बिना, ‘दिमाग और आत्मा’ के साथ मैंने वही किया जो मुझे सही लगा।

मैंने वही किया जब मैंने 1992 में स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक में अपनी नौकरी छोड़ दी और मुम्बई भाग गया, मैंने आज किया !!!
चल दर ..
हां कुछ बातें बाकी हैं..
शायद किसी दिन ..
आज नहीं या मैंने कहा..
चोल्लाम ( चलता हूं )

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments