Homeदेशनहीं रहे कल्याण, उप्र में तीन दिन का राजकीय शोक, 23 को...

नहीं रहे कल्याण, उप्र में तीन दिन का राजकीय शोक, 23 को सार्वजनिक अवकाश

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह का शनिवार को निधन हो गया। उन्होंने रात करीब सवा नौ बजे आखिरी सांस ली। वह लम्बे समये से बीमार चल रहे थे। गंभीर बीमारियों के चलते 89 साल की उम्र में उनका निधन हुआ। राजधानी के संजय गांधी स्नातकोत्तर आयुर्विज्ञान संस्थान (एसजीपीजीआई) में उन्होंने आखिरी सांस ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सहित देश भर से कई नेताओं ने उनके निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है।

 

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि कल्याण सिंह जी के निधन से मैं दुखी हूं। वे राजनेता, ज़मीनी स्तर के नेता और महान इंसान थे। उत्तर प्रदेश के विकास में उनका अमिट योगदान है। उनके पुत्र राजवीर सिंह से बात हुई और संवेदना व्यक्त की।

गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि जन-जन के हृदय में बसने वाले प्रखर राष्ट्रवादी कल्याण सिंह जी जैसा महान व्यक्तित्व ढूंढने पर विरले ही मिलता है। बाबूजी ने अपनी कर्मठता से विभिन्न संवैधानिक पदों पर रहते हुए किसान, गरीब और वंचित वर्ग को विकास की मुख्यधारा से जोड़कर देश की प्रगति में अपना अनुपम योगदान दिया।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पूर्व राज्यपाल व उप्र के पूर्व मुख्यमंत्री एवं भाजपा परिवार के वरिष्ठ सदस्य कल्याण सिंह अब हमारे बीच नहीं रहे। भारतीय राजनीति में शुचिता, पारदर्शिता व जन सेवा के पर्याय, अप्रतिम संगठनकर्ता एवं लोकप्रिय जननेता कल्याण सिंह जी का देहावसान संपूर्ण राष्ट्र के लिए अपूरणीय क्षति है। उन्हें कोटि-कोटि श्रद्धांजलि!

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रभु श्रीराम से प्रार्थना है कि दिवंगत पुण्यात्मा को अपने श्री चरणों में स्थान दें और शोक-संतप्त परिजनों को दु:ख सहने की शक्ति प्रदान करें। समाज, कल्याण सिंह जी को उनके युगांतरकारी निर्णयों, कर्तव्यनिष्ठा व शुचितापूर्ण जीवन के लिए सदियों तक स्मरण करते हुए प्रेरित होता रहेगा। वहीं कल्याण के निधन पर शोक व्यक्त करने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में आज रात साढ़े ग्यारह बजे कैबिनेट की बैठक आयोजित की जाएगी।

मुख्यमंत्री ने कल्याण सिंह ​के निधन पर प्रदेश में तीन दिन के राजकीय शोक की भी घोषणा की। कल्याण सिंह का अंतिम संस्कार 23 अगस्त की शाम नरोरा में गंगा तट पर किया जाएगा। वहीं 23 अगस्त को सार्वजनिक अवकाश रहेगा।

एसजीपीजीआई में इलाज के दौरान पिछले कुछ दिनों से कल्याण सिंह की हालत बेहद नाजुक बनी हुई थी। पूर्व मुख्यमंत्री का ब्लड प्रेशर भी लगातार कम हो गया था। वह यूरिन भी पास नहीं कर पा रहे थे। इसी वजह से उनका डायलिसिस किया जा रहा था। चिकित्सक लगातार उनकी हलात पर नजर बनाए हुए थे और उन्हें वेंटिलेटर पर ही रखा गया था। काफी कोशिशों के बावजूद उन्हें बचाया नहीं जा सका।

कल्याण सिंह बीती 04 जुलाई से एसजीपीजीआई में भर्ती थे। चिकित्सकों के मुताबिक 17 जुलाई को अचानक पूर्व मुख्यमंत्री को सांस लेने में तकलीफ होने लगी थी, तब से वह लगातार ऑक्सीजन सपोर्ट पर थे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कई बार उनका हालचाल लेने एसजीपीजीआई पहुंचे थे। इसके अलावा केन्द्रीय मंत्री राजनाथ सिंह, स्मृति ईरानी और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा समेत कई बड़े नेताओं ने लखनऊ आने पर अस्पताल जाकर उनकी सेहत की जानकारी ली थी।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments