Homeदेशकिसान महापंचायत:टिकैत की धरती पर अन्नदाताओं ने दिखायी ताकत, अब 27 को...

किसान महापंचायत:टिकैत की धरती पर अन्नदाताओं ने दिखायी ताकत, अब 27 को होगा भारत बन्द

मुजफ्फरनगर। अन्नदाताओं के मसीहा माने जाने वाले चौधरी महेन्द्र सिंह टिकैत की कर्मभूमि मुजफ्फरनगर में रविवार को संयुक्त किसान मोर्चा की महापंचायत में किसानों को सैलाब उमड़ पड़ा है। राजस्थान, हरियाणा, पंजाब, उत्तराखण्ड समेत देश के अलग-अलग हिस्सों से किसान महापंचायत में पहुंचे हैं। महापंचायत से किसान मोर्चा ने बड़ा ऐलान करते हुए कहा कि 25 सितम्बर को भारत बंद का एलान किया था। लेकिन, किन्हीं कारणों से अब इसकी तारीख बदल दी गई है। अब 27 सितम्बर को भारत बन्द किया जाएगा।

महापंचायत के मंच से टिकैत परिवार एकसाथ हुंकार भर रहा है। भाकियू अध्यक्ष नरेश टिकैत, चढ़ूनी सहित कई नेताओं ने महापंचायत में पहुंचने के लिए किसानों का अभिवादन किया। राकेश टिकैत गाजीपुर बार्डर से सीधे महापंचायत में पहुंचे। किसान महापंचायत में शामिल होने वाले युवा किसान सोशल मीडिया पर महापंचायत की तस्वीरें व वीडियो शेयर कर रहे हैं। वहीं ट्विटर पर हैशटैग किसान महापंचायत ट्रेंड कर रहा है।

योगेन्द्र यादव बोले सिर्फ मनमानी कर रही सरकार

योगेन्द्र यादव ने योगी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि फसल का दाम नहीं मिला, किसानों का पूरा कर्जा माफ नहीं किया, किसानों का बकाया नहीं दिया गया। सरकार सिर्फ अपनी मनमानी कर रही है। किसानों का कर्ज माफ करने के बजाय उत्पीड़न किया जा रहा है। सरकार ने कहा था कि गेहूं के दाने दाने की खरीद करेंगे। लेकिन, कितनी खरीद हुई सबके सामने है। सरकार जुमलेबाज है।

हिन्दी पट्टी के बाहर से भी पहुंचे किसान नेता, किया सम्बोधित

कर्नाटक की किसान नेता अनुसुइया माजी ने कन्नड़ में अपनी बात रखी। उनके भाषण का हिन्दी अनुवाद कर नजुंडास्वामी ने किसानों को समझाया। तमिलनाडु से आए किसान नेता ने तमिल व अंग्रेजी में महापंचायत को सम्बोधित किया, इसका हिन्दी अनुवाद मंजूनाथ ने किया। केरल से आए किसान नेता केवी बीजू ने भी कृषि कानून वापसी की मांग की और सरकार पर निशाना साधा।

भाजपा सांसद वरुण गांधी ने किया किसानों का समर्थन

भाजपा सांसद वरुण गांधी ने किसानों का समर्थन किया है। उन्होंने किसानों का दर्द समझने की अपील की है। उन्होंने ट्वीट किया कि, मुजफ्फरनगर में आज लाखों किसान धरना प्रदर्शन में जुटे हैं, वे हमारा ही खून हैं। हमें उनके साथ सम्मानजनक तरीके से फिर से जुड़ना शुरू करने की जरूरत है। उनके दर्द समझें, उनका नजरिया देखें और जमीन तक पहुंचने के लिए उनके साथ काम करें।

दुआएं इतनी कि ‘थैंक्यू’ छोटा पड़ जाए: ‘हैगोय यो धणियोंपात रूण दिओ, के बात नि भै’

जयंत बोले मैं भी फूल माला नहीं करूंगा स्वीकार

राष्ट्रीय लोकदल के अध्यक्ष जयंत चौधरी ने अपने ट्वीट में आज कहा कि #MuzaffarnagarPanchayat में हेलीकॉप्टर से पुष्प बरसाकर किसानों के प्रति आदर भाव व्यक्त करना चाहता था। जब तक ऐसी सरकार को बदल नहीं लेते जिसके राज में किसानों पर पुष्प वर्षा नहीं हो सकती, मैं भी फूल माला स्वीकार नहीं कर सकूंगा।

गाजीपुर बार्डर से पहुंचे राकेश टिकैत

राकेश टिकैत यहां से वापस गाजीपुर बार्डर ही जाएंगे। वे नौ महीने से घर नहीं गए है। संयुक्त किसान मोर्चा के पदाधिकारियों मोहन सिंह, योगेंद्र यादव, जगजीत सिंह, दर्शनपाल, शिवकुमार बलबीर सिंह आदि को राकेश टिकैत ने पटका पहनाया। जिसके बाद सिख समाज के लोगों ने राकेश टिकैत को तलवार भेंट की। महापंचायत में आने वाले वाहनों के कारण पूरा शहर जाम हो गया है। जिस वाहन को जहां जगह मिल रही है वह वहीं खड़ा हो रहा है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments