Homeराज्यसुनो द्रौपदी शस्त्र उठा लो अब गोविंद न आएंगे...चित्रकूट में प्रियंका वाड्रा...

सुनो द्रौपदी शस्त्र उठा लो अब गोविंद न आएंगे…चित्रकूट में प्रियंका वाड्रा ने महिलाओं में भरा उत्साह

चित्रकूट। कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव व प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा ने बुधवार को चित्रकूट के ऐतिहासिक मत्तगजेंद्र शिव मंदिर में पूजन अर्चन किया। उन्होंने कामतानाथ जी के दर्शन कर कामदगिरि पर्वत की परिक्रमा की। इसके बाद मंदाकिनी किनारे बने मंच पर उन्होंने अपना प्रतिज्ञा पत्र पढ़कर दोहराया। प्रियंका ने महिला सुरक्षा के लिए कमीशन गठित करने की भी बात कही।

उन्होंने कहा कि महिला उत्पीड़न होने पर दस दिन तक यदि एफआईआर दर्ज नहीं होती है तो दोषी पुलिस अधिकारी निलम्बित होगा और छह सदस्यीय एक कमीशन का भी गठन कराया जाएगा। इस कमीशन में सभी सदस्य महिलाएं होंगी, जिसमें दो पूर्व जज, दो एनजीओ से जुड़ी समेत विभिन्न कार्यक्षेत्र से महिलाएं होंगी। उन्होंने ‘सुनो द्रौपदी शस्त्र उठा लो अब गोविंद न आएंगे, कब तक आस लगाओगी तुम बिके हुए अखबारों से, कैसी रक्षा मांग रही हो दु:शासन के दरबारों से, सुनो द्रोपदी शस्त्र उठा लो अब गोविंद न आएंगे…कविता सुनाकर महिलाओं में जोश भरने का प्रयास किया।

 

कांग्रेस महासचिव ने कहा कि उन्होंने कहा कि 40 फीसदी की भागीदारी एक शुरुआत है और लोकसभा के चुनाव में हमारी ये कोशिश रहेगी कि 50 फीसदी टिकट महिलाओं को दिया जाये। प्रदेश में हर जिले में 75 पाठशालाएं जो केंद्रीय विद्यालय की तरह होंगे। लेकिन, सिर्फ महिलाओं के लिए होंगे, जिसमें पढ़ाई के साथ अलग अलग हुनर सिखाए जाएंगे।

प्रदेश की स्थिति बहुत खराब है। खाद की लाइन में खड़े-खड़े कई लोगों ने जान गंवाई। ऐसी पीड़ा से गुजरने वाले परिवार में सबसे ज्यादा महिलाओं को बोझ उठाना पड़ता है। सरकार में महंगाई का बोझ बढ़ा है, ढाई सौ रुपये में तेल बिक रहा है और एक हजार में सिलेंडर मिल रहा है। इस सरकार ने महिलाओं को तोहफे में एक सिलेंडर देकर बाद में एक हजार में खरीदने को छोड़ दिया। ऐसी सरकार को महिला शक्ति पहचान नहीं है और उन्हें आगे नहीं आने देना चाहती है।

उन्होंने कहा कि कोरोना काल में पलायन करने वाले परेशान लोगों के लिए बसें नहीं थी। लेकिन, लेकिन मोदी जी की रैली में भीड़ जुटाने के लिए हजारों सरकारी बसें लगा दी गईं। प्रियंका ने ने कांग्रेस पार्टी की नौ प्रतिज्ञाएं गिनाते हुए कहा कि किसानों का कर्जा माफ होगा, गेहूं और धान 2500 रुपये में खरीदा जाएगा और गन्ना किसान को चार सौ दिया जाएगा। बीस लाख सरकारी रोजगार कार्ड बनवाएंगे, जिसमें चालीस प्रतिशत महिलाओं को जाएंगे। कार्ड के जरिए कोई भी बीमारी होगी तो दस लाख रुपये तक मुफ्त इलाज मिलेगा। छात्राओं को स्मार्ट फोन दिए जाएंगे ताकि उसे ऑनलाइन कोर्सेस के जरिए पढ़ाई और सुरक्षा में मददगार होगा। किसी समस्या पर घर में तत्काल सूचना दे सकेंगी। प्रदेश में बिजली के बिल आधे किए जाएंगे, कोरोना काल में काम धंधा बंद होने वाले छोटे दुकानदारों और व्यापारियों के बिलों को माफ किया जाएगा। कोरोना के समय आर्थिक मार उठा चुके गरीब परिवारों को 25 हजार रुपये दिए जाएंगे।

उन्होंने कहा कि आरक्षित सरकारी पदों में महिलाओं के लिए चालीस प्रतिशत का प्रावधान किया जाएगा। उन्होंने कहा कि कई बार शिकायत मिली कि विधवा पेंशन बहुत कम मिल रही है तो उसे एक हजार रुपये तक बढ़ाया जाएगा। आशा बहू और आंगनबाड़ी का मानदेय दस हजार रुपये प्रतिमाह होगा और अतिरिक्त कार्य का अलग से मेहनताना दिया जाएगा। प्रदेश में हर जिले में केंद्रीय विद्यालय की तर्ज पर सिर्फ लड़कियों के लिए 75 पाठशालाएं स्थापित होंगी, जहां पढ़ाई के साथ रोजगारपरक प्रशिक्षण भी दिया जाएगा। छात्राओं को स्कूटी दी जाएगी। इससे पढ़ाई करने के लिए दूर जाने में समस्या नहीं होगी। महिलाओं के लिए सरकारी बसों में फ्री यात्रा की सुविधा दी जाएगी।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments