Homeजुर्मपिता, ताऊ-चाचा से लेकर सपा-बसपा जिलाध्यक्ष तार-तार करते रहे अस्मत,किशोरी ने बताई...

पिता, ताऊ-चाचा से लेकर सपा-बसपा जिलाध्यक्ष तार-तार करते रहे अस्मत,किशोरी ने बताई आपबीती

28 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज, एक भी गिरफ्तारी नहीं

ललितपुर। एक पिता छह वर्षों से अपनी ना​बालिग बेटी की अस्मत को न सिर्फ बार बार तार करता रहा, बल्कि उसने दूसरों से भी ऐसा कराया। हर बार बेटी पिता, ताऊ, चाचा और नेताओं के लिबास में दरिन्दों के हाथों गिड़गिड़ाती, विनती करती लेकिन न बाप का दिल पसीजा और न दूसरों का।

 

लाचार मां और भाई भी इस नाबालिग के साथ हो रहे जुल्म को देख सिहरते रहे। लेकिन डर की वजह से मुंह नहीं खोला। आखिरकार 17 वर्षीय इस बेटी ने अब हिम्मत करके अपनी फरियाद उच्चाधिकारियों तक पहुंचायी तो हड़कम्प मचना स्वभाविक था। हालांकि इसके बावजूद खाकी ने अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं की है।

रिश्ते को कलंकित करने वाले इस गुनाह में किशोरी की तहरीर पर पिता, सपा जिलाध्यक्ष, उनके भाइयों व नगर अध्यक्ष, बसपा जिलाध्यक्ष व नगर अध्यक्ष सहित 28 लोगों पर दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज किया गया है। सुरक्षा के मद्देनजर पीड़ित के घर पुलिस फोर्स तैनात कर दी गई है। वहीं इस खुलासे के बाद सियासी गलियारों में भी हड़कम्प मचा हुआ है। बुधवार को डीआईजी झांसी ने पीड़ित से घर जाकर मुलाकात की और उसे न्याय दिलाने का आश्वासन दिया।

शिवपाल बोले-गठबन्धन के लिए अखिलेश से फोन पर हुई बात, सियासत में सम्भावनाएं खत्म नहीं होती

ललितपुर कोतवाली सदर क्षेत्र निवासी 17 वर्षीय किशोरी की तहरीर के मुताबिक उसके साथ सबसे पहले दुष्कर्म तब हुआ जब वह कक्षा छह में पढ़ती थी। पिता ने खेतों के पास ले जाकर उसके साथ दुष्कर्म किया। इसके बाद यह सिलसिला बार बार शुरू हो गया। इसके बाद पिता ने उसका सौदा शुरू कर दिया और उसे धमका कर होटलों में ले जाने लगा। जहां नेताओं से लेकर अलग अलग लोगों ने उसकी अस्मत को तार तार किया। विरोध करने पर मां को मारने की धमकी दी। आखिरकार सब्र का पैमाना छलकने पर किशोरी ने मां और भाई को अपने साथ कमरे में बंद कर किसी तरह फोन से पुलिस से शिकायत की।

पुलिस अधीक्षक निखिल पाठक ने खुद किशोरी के घर पहुंचकर कार्रवाई का आश्वासन दिया। तब जाकर वह मां और भाई के साथ बाहर आई। इस मामले में सपा जिलाध्यक्ष तिलक यादव, बसपा जिलाध्यक्ष दीपक अहिरवार, राजू यादव, महेन्द्र यादव, अरविंद यादव, प्रबोध तिवारी, सोनू समैया, राजेश जैन जोझिया, महेंद्र दुबे, नीरज तिवारी, महेंद्र सिंघई, कोमलकांत सिंघई समेत 28 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। किशोरी का मेडिकल परीक्षण कराया गया है और धारा 161 व 164 के तहत बयान दर्ज कराये गये हैं।

पुलिस जांच में ये भी सामने आया है कि दुराचारी पिता अपने पुत्र का भी यौन उत्पीड़न कर रहा था। डर की वजह से पुत्र ने चुप्पी साधी हुई थी। अब बहन के आवाज उठाने के बाद भाई ने भी इस सम्बन्ध में पुलिस अधिकारियों को सच्चाई बयान की है।

यह राजनीतिक साजिश है। फर्जी मामला बनाकर नाबालिग लड़की से झूठा मुकदमा दर्ज कराया गया है। इसमें उसके चार भाइयों, सपा के नगर अध्यक्ष का नाम भी लिखा दिया गया है। इसके अलावा एक पार्षद और बसपा के जिलाध्यक्ष का नाम भी लिखाया है। लड़की ने अपने पिता, चाचा और ताऊ पर भी आरोप लगाए हैं। एफआईआर देखकर ही लग रहा है कि पूरा मामला झूठा है। निष्पक्ष जांच की जाए और जो दोषी है, उसे दंडित किया जाए। यदि मेरी छवि और परिवार को बर्बाद करने का प्रयास किया जाएगा तो आत्महत्या करने के लिए मजबूर हो जाऊंगा। –तिलक यादव, जिलाध्यक्ष, सपा

जो मुकदमा लिखाया गया है, वह पूरी तरह झूठा है। यह विरोधियों का षड्यंत्र है। मेरा किशोरी या उसके परिवार से दूर दूर तक कोई सम्बन्ध नहीं है। मामले की निष्पक्ष व स्वतंत्र एजेंसी के माध्यम से जांच होनी चाहिए। -दीपक अहिरवार, जिलाध्यक्ष, बसपा

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments