Homeराज्यस्वास्थ्य क्षेत्र में यूपी ने लगाई छलांग

स्वास्थ्य क्षेत्र में यूपी ने लगाई छलांग

राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण
• एनएफएचएस-5 2020-21 के सर्वेक्षण का आंकड़ा जारी
• संस्थागत प्रसव 67.8 प्रतिशत से 83.4 प्रतिशत पहुंचा
• परिवार नियोजन साधनों की उपयोगिता हुई 45.5% से 62.4% 
• दस्त संक्रमण दर 15 प्रतिशत से घटकर हुई 5.6 प्रतिशत 

लखनऊ। स्वास्थ्य के क्षेत्र में उत्तर प्रदेश ने एक जोरदार छलांग लगाई है। यह साबित कर रहा है राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (एनएफएचएस)-5 का आंकड़ा। एनएफएचएस सर्वेक्षण हर 5 वर्ष बाद किया जाता है। इसके पहले वर्ष 2015-16 में सर्वे हुआ था।

राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण 2020-21 के आंकड़ों के अनुसार परिवार नियोजन के प्रति लोगों के बीच जागरूकता बढ़ी है। इसके चलते दम्पति के बीच परिवार नियोजन के साधनों की उपयोगिता 45.5% से 62.4% बढ़ गई है। वहीं प्रदेश में कुल प्रजनन दर 2.7 भी 2.4 आ गई है। मातृत्व स्वास्थ को लेकर लोग पहले से ज्यादा सतर्क हुए हैं।

India, USA agree on transitional approach on Equalisation Levy 2020

संस्थागत प्रसव 67.8 प्रतिशत से 83.4 प्रतिशत पहुंच गया है। 4 प्रसव पूर्व जांचें 26.4 प्रतिशत से अब 42.4 प्रतिशत होने लगी हैं। वहीं बाल स्वास्थ्य में भी प्रदेश ने धमाल दिखा दिया है। छह माह की उम्र के बच्चों का स्तनपान 41.6 प्रतिशत बढ़कर 59.7 प्रतिशत हो गया है। वहीं दस्त के मरीज के मामले या संक्रमण दर 15 प्रतिशत से घटकर 5.6 प्रतिशत हुई है। संभवतः ऐसा परिवर्तन इज्जत घर के निर्माण से हुआ है। प्रदेश में कोरोना काल में स्वास्थ्य योजनाओं को घर-घर पहुंचाने के विभिन्न जतन किए जा रहे हैं। इसका परिणाम कुल टीकाकरण का ग्राफ 51.1 प्रतिशत से 69.6 प्रतिशत हुआ है।

अधिकारियों ने दी बधाई

मातृ स्वास्थ्य में यूपी में काफी अच्छा काम हुआ है। इसके लिए समस्त स्वास्थ्य टीम को शुभकमाएं देता हूं। अपने प्रदेश में टीकाकरण के प्रति जागरूकता बढ़ी है वहीं । टीकाकरण के कार्य में लगे सभी सदस्यों को पुनः बधाई देता हूं। एक बेहतर टीम के बदौलत ही यूपी में टीकाकरण का ग्राफ बढ़ा है।

डॉ. मनोज शुक्ल, महाप्रबंधक टीकाकरण, मातृ स्वास्थ

बाल स्वास्थ्य के लिए प्रदेशवासी पहले से ज्यादा संजीदा हुए हैं। नवजात की देखभाल के प्रति लोगों में पहले भ्रांतियां और संदेह व्याप्त रहता था। ऐसे में योजनाओं को व्यवहारिक रूप से लागू करने में दिक्कत आती थी लेकिन अब इसमें गिरावट आई है। बाल स्वास्थ्य से जुड़े समस्त अधिकारी, कर्मचारी और स्वास्थ्य कार्यकर्ता पुनः बधाई के पात्र हैं।

डॉ. वेद प्रकाश, महाप्रबंधक आर.बी.एस.के. व आर.के.एस.के.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments